Tuesday, October 17, 2017

संस्मरण : असहमति के सहयात्री

राजेंद्र यादव को याद करते हुए ऐसा जीवंत व्यक्ति हिंदी में शायद ही दूसरा कोई हो। राजेंद्र जी अकेले ऐसे व्यक्ति थे जो पिछले दो दशकों से हिंदी की प्राणहीन,...

साहित्य – पटना : कविता का रागदरबारी

अजय सिंह सन् 1970 के दशक के हमारे दोस्त - वामपंथी रुझान के हिंदी कवि - आलोकधन्वा और मंगलेश डबराल उन 43 कवियों में शामिल हैं, जो बिहार सरकार...

साक्षात्‍कार : पुरुषों के लेखन में इस्लाम की संस्कृति व जिंदगी का चित्रण है...

तमिल लेखिका सल्मा से श्याम सुधाकर की बातचीत सलमा तिरुच्चिराप्पल्ली के नजदीक तुवरन कुरिच्ची में रहती हैं। उनका असली नाम रुखिया राजात्ती है। 13 वर्ष की उम्र में औपचारिक शिक्षा...

सार्वजनिक जगहें : शीशे के घर के पत्‍थरबाज

'चिनाय सेठ, जो लोग शीशे के घरों में रहते हैं, वे दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते। ‘ - वक्त फिल्म का संवाद। मेरे लेख 'जसम फिर अज्ञेय-भक्तों के हवाले!’ (समयांतर...

हीरक जयंति : जीवन और कला के अटूट संबंध

सुलतान त्यागी यामिनी राय की हीरक जयंती के अवसर पर उनकी कला की देश-विदेश में खासी चर्चा है। यामिनी को अंग्रेजी व बांग्ला में जामिनी राय लिखा जाता है।...

यात्रा : देस में परदेस

भयावह ठंड के एक पखवाड़े के बाद अचानक मौसम ने करवट ले ली। यह अच्छा सगुन था।रात दस बजे के टॉक शोक में चल रहे बवाल के बावजूद मैं...

मिस्र में राजनीतिक परिवर्तन और लेखक

महेंद्र राजा जैन आज मिस्र के लोगों में कुंठा बहुत बढ़ गई है। पिछले वर्ष (2011) फरवरी में राष्ट्रपति होस्नी मुबारक के सत्ता से हटते ही जो उल्लास छाया...

अमरीकी प्रतिसंस्कृति के चौराहे पर खड़ा संगीतकार

सीमा सिरोही वुडस्टॉक का आयोजन अगर साठ के दशक के अमेरिका में मुख्यधारा और हिप्पी संस्कृति का एक रहस्यमय और जादुई समागम था, तो पंडित रवि शंकर अपनी...

श्रद्धांजलि : ध्वनियों और श्रव्य संरचना का संधान

शुभा मुद्गल वह दिन श्रद्धांजलि और स्मृतियों के आवाहन का था। युवा और बुजुर्ग संगीतकारों, उस्तादों, नेताओं और कलाकारों ने पंडित रवि शंकर का जयघोष किया...

एक दबा हुआ आर्तनाद

एक सौ बीस पृष्ठों की एक पतली-सी किताब जिसके हर पृष्ठ में 150 शब्द से ज्यादा नहीं हैं पिछले कई महीनों से बंगला की 'बेस्ट सेलर' हुई है। कोलकाता...