लेखक की जिम्मेदारियां

लेख

लेखक : एदुआर्दो गालेआनो

एदुआर्दो गालेआनो का ज्यादातर लेखन बिखरे हुए छोटे-छोटे काव्यात्मक गद्यांशों से बना है, जिनमें वह व्यक्तिगत अनुभवों, संस्मरणों, बातचीत, लोककथाओं, इतिहास के टुकड़ों और खबरों के जरिए मौजूदा व्यवस्था की नाइंसाफियों को उजागर करते हैं, उसे चुनौती देते हैं और एक नई दुनिया के निर्माण की जरूरत पर जोर डालते हैं। उनके लेखन से चुने हुए कुछ अंश, जो गालेआनो की वैचारिकी और उनकी अनोखी लेखन शैली दोनों का नमूना पेश करते हैं।
मूल स्पेनी भाषा से अनुवाद : रेयाज उल हक

कला की जिम्मेदारी दिएगो ने कभी भी समुद्र नहीं देखा था। उसके पिता सांतियागो कोवादियोफ उसे समंदर दिखाने ले गए। वे दक्षिण की ओर गए। रेत के टीलों के पार पसरा हुआ समंदर उनका इंतजार कर रहा था। जब काफी पैदल चलने के बाद बच्चा और उसके पिता आखिर में टीलों तक पहुंचे, तो समंदर उनकी आंखों के आगे फट पड़ा। और सागर और उसकी चमक इतनी अपार थी कि बच्चा उसकी खूबसूरती से अवाक रह गया। और जब वह कुछ बोलने के काबिल हुआ, तो कांपते हुए, हकलाते हुए, उसने अपने पिता से कहा: ‘देखने में मेरी मदद करो!’

उपदेशक मिगेल ब्रून ने मुझे बताया कि कुछ बरस पहले वह पारागुवाई चाको के इंडियन लोगों से मिलने गए थे। वह एक ईसाई प्रचार अभियान का हिस्सा थे। मिशनरियों ने वहां के मुखिया से भेंट की, जिन्हें काफी समझदार माना जाता था। उस खामोश, मोटे से, मुखिया ने वह उस धार्मिक प्रचार को बिना पलक झपकाए सुना जो उन्हें उन्हीं की भाषा में पढ़कर सुनाया जा रहा था। अपनी बात खत्म करने के बाद, मिशनरी उनके जवाब का इंतजार करने लगे। मुखिया ने कुछ वक्त लिया, फिर बोले : ‘यह खुजलाता है। यह बहुत सख्ती से खुजलाता है और बहुत अच्छा खुजलाता है।’ और फिर उन्होंने जोड़ा : ‘लेकिन यह वहां खुजलाता है, जहां खुजली ही नहीं होती है।’ इससे आगे के  पेजों को देखने  लिये क्लिक करें NotNul.com

कठिन है डगर…

समयान्तर, मई, 2015

संपादकीय मार्क्सवादी कम्युुनिस्ट पार्टी (माकपा) के नए महासचिव सीताराम येचुरी उसी परंपरा के नेता हैं जिसकी शुरुआत उनके पूर्ववर्ती प्रकाश करात से हुई। येचुरी छात्र राजनीति से उभरे हैं और उनके पूर्ववर्ती प्रकाश करात भी वहीं से आए हैं। येचुरी उसी एलीट जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय की देन हैं जिसमें प्रकाश करात ने शिक्षा पाई। यह [Read the Rest…]

जमीन : कुछ तथ्य

विश्व बैंक की परियोजनाएं: इंटरनेशनल कॉन्जोर्टियम ऑफ इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट (खोजी पत्रकारों के अंरराष्ट्रीय संगठन) हफिंग्टन पोस्ट और गार्डियन, एल पास समेत 20 अन्य मीडिया संस्थानों द्वारा की गई जांचों के अनुसार वर्ल्ड बैंक (विश्व बैंक) ऐसी परियोजनाओं को वित्त मुहैया करवा रहा है जिन्होंने दुनिया के सबसे गरीब देशों में बर्बादी बरपा रखी है। इस [Read the Rest…]

झूठे आंबेडकर प्रेम का विखंडन

हाशिये की आवाज अगर मूर्तियां, यादगार निशानियां, तस्वीरें और पोस्टर, गीत और गाथाएं, किताबें और पर्चे या फिर स्मृति में बसे जलसों का आकार किसी की महानता को मापने के पैमाने होते, तो शायद इतिहास में ऐसा कोई नहीं मिले जो बाबासाहेब आंबेडकर की बराबरी कर सके। उनके स्मारकों की फेहरिश्त में नई से नई [Read the Rest…]

छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले के गांवों के हालात

पीयूडीआर की जांच रिपोर्ट लेखक : पीयूडीआर जुलाई 2014 से छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में वन गांवों से ऑपरेशन ग्रीन हंट के गहन होने की खबरें आ रही थीं। नागरिक अधिकार संगठनों से लगातार-जमीनी स्तर पर इन मामलों की जांच के लिए मांग की जा रही थी। इसलिए, पीयूडीआर ने 26 से 31 दिसंबर 2014 [Read the Rest…]

सांप्रदायिकता की बढ़ती गिरफ्त

समाचार-संदर्भ छत्तीसगढ़ लेखक: डिग्री प्रसाद चौहान  छत्तीसगढ़ में जातीय हिंसा तथा दलित उत्पीड़न की बढ़ती घटनाओं के बीच विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल ने भगवान राम को पांच हजार दलित बस्तियों तक पहुंचाने का लक्ष्य बनाया है। पौराणिक रामराज्य के संस्थापक राम, जिन्होंने ज्ञान के क्षेत्र में एक वर्ग विशेष की श्रेष्ठता प्रतिपादित करते [Read the Rest…]

Page 30 of 165« First...1020...2829303132...405060...Last »