Home

[wpb-latest-product title=”Magzines”]

Like us on Facebook

चर्चा में

संस्मरण : असहमति के सहयात्री

राजेंद्र यादव को याद करते हुए ऐसा जीवंत व्यक्ति हिंदी में शायद ही दूसरा कोई हो। राजेंद्र जी अकेले ऐसे व्यक्ति थे जो पिछले दो दशकों से हिंदी की प्राणहीन,...

घटनाक्रम – दिसंबर 2013

निधन - प्रसिद्ध कनाडाई डाक्यूमेंटरी फिल्मकार पीटर विन्टॉनिक का कैंसर से निधन। उनकी सर्वाधिक चर्चित फिल्मों में मैन्युफैक्चरिंग कांसेंट: नोम चोम्स्की एंड द मीडिया तथा सिनेमा वेराइटे: डिफाइनिंग द...

साहित्य – पटना : कविता का रागदरबारी

अजय सिंह सन् 1970 के दशक के हमारे दोस्त - वामपंथी रुझान के हिंदी कवि - आलोकधन्वा और मंगलेश डबराल उन 43 कवियों में शामिल हैं, जो बिहार सरकार...

शिक्षा :बदलेंगे चित्र तो बदलेगा मानस

गायत्री आर्य मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने स्कूली किताबों से ऐसे सभी चित्र बदलने को कहा है जिसमें लड़कियों को लड़कों के मुकाबले कमतर दिखाया जा रहा हो। उत्तराखंड...

संपादकीय : रास लीला, राम लीला और ‘न्याय लीला’

उपरोक्त शब्दों में तीसरा शब्द जो अर्थ प्रेषित करता है वह रास लीला और राम लीला से बिल्कुल भिन्न है। 'न्याय लीला’ कहते ही जो बोध होता है वह...

घटनाक्रम : जून 2012

त्यागपत्र सुप्रसिद्ध बांग्ला लेखिका महाश्वेता देवी ने विरोध स्वरूप पश्चिम बंगाल की बंगला अकादेमी से इस्तीफा दिया। निधन हिंदी के जाने-माने कवि भगवत रावत (13 सितंबर, 1939-25 मई, 2012) का भोपाल में...

प्रकाशकीय 15वें वर्ष में प्रवेश

इस अंक के साथ समयांतर अपने पुनर्प्रकाशन के 15वें वर्ष में प्रवेश कर रहा है। हमारे लिए यह यात्रा कठिन, चुनौती पूर्ण पर आनंददायक रही है। प्रथम अंक से ही...

मंच : सीमा आजाद के नाम पत्र

प्रिय सीमा आजाद, भारतीय शासकों की निर्ममता की एक और शिकार होने के नाते हमारी हार्दिक संवेदनाएं आपके साथ हैं। मैं आपको यह पत्र जिस न्यायालय ने आपको दंडित किया...

दिल्ली मेल : लेखन और सत्ता की असहिष्णुताः संदर्भ तस्लीमा नसरीन

'इस्लाम की बेटियां' जैसा विषय हो और तस्लीमा नसरीन उपस्थित होने के बावजूद न बोलें, यह सामान्य नहीं है। हमारा इशारा हंस के वार्षिकोत्सव की ओर है जिसमें इस...

कविता का जनपक्षधर चेहरा

दीपक प्रकाश त्यागी बुरे समय में नींद: रामाज्ञा शशिधर, अंतिका प्रकाशन, मूल्य: 100 चाल्र्स डिकेन्स के प्रसिद्ध उपन्यास ए टेल ऑफ टू सिटीज में फ्रांसीसी क्रांति को लक्ष्य करके...

निधन

अरुण प्रकाश अरुण प्रकाश का जन्म बेगूसराय जिले के निपनियां गांव में हुआ। उनके पिता रुद्र नारायण झा प्रसिद्ध समाजवादी नेता थे और सांसद चुने गए थे। कहने को अरुण...

दिल्ली मेल : भ्रष्टाचार का महाचक्र

केंद्रीय हिंदी संस्थान को लेकर इधर जो समाचार आ रहे हैं वे कमोबेश हिंदी के नाम पर चलनेवाले गोरखधंधे का उदाहरण हैं। कभी वह दौर था जब हमारे राजनेता...

फिल्म : अरब-एशिया का सिनेमा

प्रताप सिंह अरब-एशिया के सिनेमा पर केंद्रित ओसियान सिनेफेन फिल्म समारोह दो साल के अंतराल के बाद नए शिगूफे और कुछेक दिलचस्प फिल्मों के साथ हाजिर हुआ। पर जो धूम...

पाकिस्तान : असुरक्षा से अनिश्चितता तक

अनवार रिज़वी चिंगारी: पाकिस्तान का अतीत और भविष्य : एम. जे. अकबर; अनु.: नीलाभ, हार्परकॉलिंस पब्लिशर्स इंडिया, पृ.: 348; मूल्य: रु.299 (पेपरबैक संस्करण) ISBN 978 - 93-5029 -174 -...

घटनाक्रम– सितंबर 2012

शरण · विकी लीक्स के संपादक जूलियन असांज को इक्वाडोर ने 16 अगस्त को राजनीतिक शरण दी। निधन · सुप्रसिद्ध अमेरिकी उपन्यासकार और लेखक गोर विडाल (3 अक्टूबर, 1925 - 31 जुलाई,...

मीडिया

फिल्म

फिल्म : अरब-एशिया का सिनेमा

प्रताप सिंह अरब-एशिया के सिनेमा पर केंद्रित ओसियान सिनेफेन फिल्म समारोह दो साल के अंतराल के बाद नए शिगूफे और कुछेक दिलचस्प फिल्मों के साथ...
0FansLike
64,303FollowersFollow
3,396SubscribersSubscribe
- Advertisement -

कविता का जनपक्षधर चेहरा

दीपक प्रकाश त्यागी बुरे समय में नींद: रामाज्ञा शशिधर, अंतिका प्रकाशन, मूल्य: 100 चाल्र्स डिकेन्स के प्रसिद्ध उपन्यास ए टेल ऑफ टू सिटीज में...

पत्र : नारी मुक्ति बनाम नारी देह मुक्ति

'एकाधिकार पर खतरे से डरी हुई पितृसत्ता’ (समयांतर सितंबर, 2013) में मोहसिना खातून का लेख पढ़ा। लेख पढऩे के बाद ऐसा महसूस हुआ कि...

डूरंड रेखा : उपराष्ट्रीयताओं का सवाल

पाकिस्तान और अफगानिस्तान को विभाजित करने वाली डूरंड लाइन को लेकर विवाद एक बार फिर सुर्खियों में आ गया है। अमेरिका के विदेश मंत्रालय...

प्राकृतिक संसाधनों की लूट की परियोजनाएं–1

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने लगता है अपने एजेंडे पर काम करना शुरू कर दिया है। उनके साथ उन लोगों की एक बड़ी...

संपादकीय : शौचालय बनाम हथियार

ऐसे तथ्य हैं जो किसी से छिपे नहीं हैं। पर इन के संबंध में बोलना एक तरह से मुख्यधारा में वर्जित है - देश...

मंच : मंटो के व्यक्तित्व को समझना होगा

शकील सिद्दीकी सआदत हसन मंटो पर विद्यार्थी चटर्जी का लेख पढ़ा। अहमद राही का खयाल सही नहीं है कि ''मंटो की मौत उसी दिन शुरू...
[testimonial_count]