Home

[wpb-latest-product title=”Magzines”]

Like us on Facebook

चर्चा में

संस्मरण : असहमति के सहयात्री

राजेंद्र यादव को याद करते हुए ऐसा जीवंत व्यक्ति हिंदी में शायद ही दूसरा कोई हो। राजेंद्र जी अकेले ऐसे व्यक्ति थे जो पिछले दो दशकों से हिंदी की प्राणहीन,...

घटनाक्रम – दिसंबर 2013

निधन - प्रसिद्ध कनाडाई डाक्यूमेंटरी फिल्मकार पीटर विन्टॉनिक का कैंसर से निधन। उनकी सर्वाधिक चर्चित फिल्मों में मैन्युफैक्चरिंग कांसेंट: नोम चोम्स्की एंड द मीडिया तथा सिनेमा वेराइटे: डिफाइनिंग द...

साहित्य – पटना : कविता का रागदरबारी

अजय सिंह सन् 1970 के दशक के हमारे दोस्त - वामपंथी रुझान के हिंदी कवि - आलोकधन्वा और मंगलेश डबराल उन 43 कवियों में शामिल हैं, जो बिहार सरकार...

शिक्षा :बदलेंगे चित्र तो बदलेगा मानस

गायत्री आर्य मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने स्कूली किताबों से ऐसे सभी चित्र बदलने को कहा है जिसमें लड़कियों को लड़कों के मुकाबले कमतर दिखाया जा रहा हो। उत्तराखंड...

संपादकीय : रास लीला, राम लीला और ‘न्याय लीला’

उपरोक्त शब्दों में तीसरा शब्द जो अर्थ प्रेषित करता है वह रास लीला और राम लीला से बिल्कुल भिन्न है। 'न्याय लीला’ कहते ही जो बोध होता है वह...

दिल्ली मेल : शारीरिक बनाम मानसिक रुग्णता

पहले यह टिप्पणी देख लीजिए: ''एक गोष्ठी में एक थोड़े जी आए और एक अकादमी बना दिए गए कवि के बारे में बोले वह उन थोड़े से कवियों में...

संस्मरण : करुणा उपजाती अज्ञेयता

महावीर सरवर अपने अपने अज्ञेय: सं.: ओम थानवी; (दो खंड) वाणी प्रकाशन ; पृष्ठ : 1053; मूल्य : रु. 1500, ISBN : 9789350009161, ISBN : 9789350009178 अगर गहराई से...

मीडिया का भगवान

रामप्रकाश अनंत अनजानी चीजों के बारे में जानने की मनुष्य की स्वाभाविक जिज्ञासा रही है। इसी जिज्ञासा के चलते दो मतों का विकास हुआ। पहले मत में वे लोग आते...

धार्मिक पर्यटन राजनीति और अन्‍य सवाल

आखिर पर्यटन में इतनी बढ़ोतरी के कारण क्या हो सकते हैं? निश्चय ही इस बीच लोगों की आय में वृद्धि हुई है और आवागमन के साधनों का विकास भी,...

उत्तराखंड : बर्बादी की ऊर्जा परियोजनाऐं

भारत झुनझुनवाला जलविद्युत कंपनियों की अवैध गतिविधियों को केंद्र और उत्तराखंड की राज्य सरकार का समर्थन मिल रहा है। इसमें अंतर्निहित यह समझ है कि इन परियोजनाओं से होनेवाले लाभ...

लोकतंत्र की ढाल, पूंजीवाद का साम्राज्य

''हेगेल ने कहीं कहा था कि दुनिया के तमाम महान ऐतिहासिक तथ्य और व्यक्तित्व अपने को दोहराते हैं, लेकिन वह यह कहना भूल गए कि पहली बार त्रासदी के...

दिल्ली मेल : लिट फेस्टिवों की भरमार

जयपुर लिट फेस्ट ने और जो किया हो, पूरे भारतीय उपमहाद्वीप में अंग्रेजी साहित्य की धूम मचा दी है। अकेले दिसंबर माह में ही देश में तीन साहित्यिक समारोह...

समाज विज्ञान : हिंदुत्व की स्त्रीवादी चीरफाड़

गायत्री आर्य स्त्रीत्व से हिंदुत्व तक: चारू गुप्ता; पृष्ठ: 287; मूल्य : रु. 500 ; राजकमल ISBN 9788126722389 भारत में सांप्रदायिकता के उदय व विकास पर काफी लेखन हो...

सीमित दायरे में स्त्री-प्रश्न

प्रदीप पंत अद्यतन सच : वीरेंद्र सक्सेना, भावना प्रकाशन,पृ. सं.: 448, मूल्य: 600 रुपए ISBN 978-81-7667-256 - 6 पिछले कुछ वर्षों से स्त्री-अस्मिता के प्रश्न हिंदी कथा-साहित्य के केंद्र में हैं। यह...

साहित्य अकादेमी : हिंदी का गौरव काल ?

विश्वनाथ प्रसाद तिवारी के अध्यक्ष बनने से हिंदी जगत इस बात को लेकर मस्त है कि केंद्रीय साहित्य अकादेमी के इतिहास में पहली बार एक हिंदी लेखक सर्वोच्च पद...

मीडिया

फिल्म

खेल का राजनीतिक खेल

अण्णा आंदोलन का फिल्मी संस्करण: पानसिंह तोमर तिगमांशु धूलिया निर्देशित फिल्म पानसिंह तोमर और अण्णा टीम में कुछ प्रचंड समानताएं हैं। अण्णा टीम संसद और...
0FansLike
64,303FollowersFollow
3,396SubscribersSubscribe
- Advertisement -

समाज विज्ञान : हिंदुत्व की स्त्रीवादी चीरफाड़

गायत्री आर्य स्त्रीत्व से हिंदुत्व तक: चारू गुप्ता; पृष्ठ: 287; मूल्य : रु. 500 ; राजकमल ISBN 9788126722389 भारत में सांप्रदायिकता के उदय व...

भारत में सिनेमा के सौ साल – 2

भारतीय समाज में सिनेमा : जवरीमल्ल पारख बदले हुए दौर में प्रगतिशील आजादी के बाद की बदली परिस्थितियों ने फिल्म क्षेत्र में इप्टा की...

विशेष : श्रद्धांजलि : युग का इतिहासकार

नलिनी तनेजा एरिक हॉब्सबॉम (1917-2012) हमारे दौर के सबसे महत्त्वपूर्ण इतिहासकार हैं। उनकी प्रतिष्ठा और मान्यता भिन्न वैचारिक आग्रहों वाले बौद्धिक समुदायों के बीच...

श्रद्धांजलि : जनरल जियाप

चार अक्टूबर 2013 को 103 वर्षीय 'रेड नेपोलियन’ कहे जाने वाले आधुनिक जगत के महानतम जनरल वो न्गुयेन जियाप की मृत्यु की खबर ने...

संस्मरण : ऊंचाई की सीमा

कुमार मुकुल हंसबलाका: आचार्य जानकी वल्लभ शास्त्री; किताबघर; मूल्य: 675, पृ.सं.:458 ISBN : 978-93-81467-04-6 छायावादोत्तर काल के कवि जानकीवल्लभ शास्त्री की तीस साल पहले प्रकाशित संस्मरणों की...

साक्षात्‍कार : पुरुषों के लेखन में इस्लाम की संस्कृति व जिंदगी का चित्रण है...

तमिल लेखिका सल्मा से श्याम सुधाकर की बातचीत सलमा तिरुच्चिराप्पल्ली के नजदीक तुवरन कुरिच्ची में रहती हैं। उनका असली नाम रुखिया राजात्ती है। 13 वर्ष...
[testimonial_count]