पवित्र जीव से राष्ट्रीय पशु तक

सन् 1962 से ही नेपाल का राष्ट्रीय पशु गाय है। और गाय इसलिए है कि 1962 के संविधान में ही पहली बार नेपाल को राजसी हिंदू राष्ट्र के रूप में परिभाषित किया गया था। 

नेपाल के नए संविधान में भी गाय को राष्ट्रीय पशु स्वीकार किया गया है। अब एक ‘गणतंत्र’, ‘धर्मनिरपेक्ष’, ‘समाजवाद उन्मुख’, ‘बहुजातीय’, ‘बहुभाषिक’, ‘बहुधार्मिक’, ‘बहुसांस्कृतिक’ तथा ‘भौगोलिक विविधायुक्त’ देश की मां गाय होगी जो दूध देगी और पंचगव्य से रोगों का निदान होगा। अब नेपाली जनता बिना किसी धार्मिक दवाब के कानूनी तौर पर गाय पर गर्व कर सकेगी। इसके साथ गौ हत्या के आरोपियों को मौत की सजा देने की धर्मनिरपेक्ष मांग का विकल्प खुला रहेगा। अभी गौ हत्या की अधिकत्म सजा 12 वर्ष है। एक अध्ययन के अनुसार गौ हत्या के मामले में सारे आरोपी जनजाति, पिछड़ी मानी जाने वाली हिंदू जातियां या अल्पसंख्यक समुदाय से हैं। इससे आगे के पेजों को देखने  लिये क्लिक करें NotNul.com

हत्याओं की कहानियों का शीर्षक नहीं होता

रिपोर्ट 9 जून 2015 को बैठे-बिठाए देश के अखबारों-चैनलों को एक बड़ी खबर मिलनी थी, क्योंकि 8 जून की रात  पलामू के सतबरवा (बकोरिया) में 12 लोगों को कथित मुठभेड़ में मरना था। हमेशा की तरह मीडिया में एक ‘रेडीमेड’ वाक्य के साथ खबर चलनी थी- ‘और पुलिस को देखते ही नक्सलियों ने गोलियां चलानी [Read the Rest…]

शहर का मौसम

दिल्ली मेल छुट्टी के बाद दिल्ली आना विशेषकर ऐसी जगह से , जहां का मौसम अपने देश से भिन्न हो कई स्तरों पर दुखदाई होता है। गर्मी से तबाह होने के अलावा रंग बदलते बौद्धिक जगत की गति को एक बारगी नए सिरे से पकड़ पाना एक सिर दर्द रहता है। अकेली जान के लिए [Read the Rest…]

… हम नहीं तोड़ेंगे

हिंदी के महाबली आलोचक नामवर सिंह का 90 वां जन्म दिन बहुत ही सादगी से मनाया गया। किंचित आश्चर्य और चिंता की बात यह थी कि चुनींदा मित्रों और भक्तजनों की 28 जुलाई की उस बैठक में स्वयं नामवर जी अनुपस्थित थे। वैसे साहित्य अकादेमी द्वारा प्रकाशित हूज हू ऑफ इंडियन राइटर्स 1999 में उनकी [Read the Rest…]

संपादक को सलाम

इधर दिल्ली का मौसम तो खराब चल ही रहा है यहां की हवा भी कुछ ज्यादा ही खराब हो चुकी है। हम नहीं विशेषज्ञ कह रहे हैं कि बहुत प्रदूषण हो गया है। लोग बेचैन हैं, हम भी बेचैन हैं। ऐसे में कोई कब कहां भड़ास निकाल दे, क्या कोई गारंटी है। जैसे इधर इस [Read the Rest…]

अब्दुल्ला हुसैन

श्रृद्धांजलि 14 अगस्त 1931 – 4 जुलाई 2015 उर्दू के शीर्ष उपन्यासकार अब्दुल्ला हुसैन  का लाहौर में देहांत हो गया। वह लंबे समय से कैंसर से पीड़ित थे। पेशे से केमिकल इंजीनियर अब्दुल्ला हुसैन का मूल नाम मोहम्मद खान था। उनका जन्म पाकिस्तानी पंजाब के गुजरात जिले में एक एक्साइज इंस्पेक्टर के घर हुआ था [Read the Rest…]

Page 20 of 165« First...10...1819202122...304050...Last »