Home

[wpb-latest-product title=”Magzines”]

Like us on Facebook

चर्चा में

संस्मरण : असहमति के सहयात्री

राजेंद्र यादव को याद करते हुए ऐसा जीवंत व्यक्ति हिंदी में शायद ही दूसरा कोई हो। राजेंद्र जी अकेले ऐसे व्यक्ति थे जो पिछले दो दशकों से हिंदी की प्राणहीन,...

घटनाक्रम – दिसंबर 2013

निधन - प्रसिद्ध कनाडाई डाक्यूमेंटरी फिल्मकार पीटर विन्टॉनिक का कैंसर से निधन। उनकी सर्वाधिक चर्चित फिल्मों में मैन्युफैक्चरिंग कांसेंट: नोम चोम्स्की एंड द मीडिया तथा सिनेमा वेराइटे: डिफाइनिंग द...

साहित्य – पटना : कविता का रागदरबारी

अजय सिंह सन् 1970 के दशक के हमारे दोस्त - वामपंथी रुझान के हिंदी कवि - आलोकधन्वा और मंगलेश डबराल उन 43 कवियों में शामिल हैं, जो बिहार सरकार...

शिक्षा :बदलेंगे चित्र तो बदलेगा मानस

गायत्री आर्य मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने स्कूली किताबों से ऐसे सभी चित्र बदलने को कहा है जिसमें लड़कियों को लड़कों के मुकाबले कमतर दिखाया जा रहा हो। उत्तराखंड...

संपादकीय : रास लीला, राम लीला और ‘न्याय लीला’

उपरोक्त शब्दों में तीसरा शब्द जो अर्थ प्रेषित करता है वह रास लीला और राम लीला से बिल्कुल भिन्न है। 'न्याय लीला’ कहते ही जो बोध होता है वह...

घटनाक्रम : फरवरी 2013

निधन · वरिष्ठ हिंदी कवि हरिनारायण व्यास का पुणे में निधन वह 89 वर्ष के थे। वह दूसरा सप्तक के कवि थे नियुक्त · वेद प्रकाश विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) के...

फिल्म : अरब-एशिया का सिनेमा

प्रताप सिंह अरब-एशिया के सिनेमा पर केंद्रित ओसियान सिनेफेन फिल्म समारोह दो साल के अंतराल के बाद नए शिगूफे और कुछेक दिलचस्प फिल्मों के साथ हाजिर हुआ। पर जो धूम...

शिक्षा :बदलेंगे चित्र तो बदलेगा मानस

गायत्री आर्य मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने स्कूली किताबों से ऐसे सभी चित्र बदलने को कहा है जिसमें लड़कियों को लड़कों के मुकाबले कमतर दिखाया जा रहा हो। उत्तराखंड...

दिल्ली मेल : पर उपदेश कुशल बहुतेरे

समयांतर और पंकज बिष्ट ओम थानवी का किस तरह से पीछा (हांट) करते हैं उसका उदाहरण इधर तहलका पाक्षिक में छपा उनका साक्षात्कार है। यह साक्षात्कार कई तरह की...

घटनाक्रम : जून 2012

त्यागपत्र सुप्रसिद्ध बांग्ला लेखिका महाश्वेता देवी ने विरोध स्वरूप पश्चिम बंगाल की बंगला अकादेमी से इस्तीफा दिया। निधन हिंदी के जाने-माने कवि भगवत रावत (13 सितंबर, 1939-25 मई, 2012) का भोपाल में...

व्यक्ति स्वतंत्र्य बनाम राज्य : ‘मैंने वह किया जो उचित मानता हूं’

एडवर्ड स्नोडेन 12 जुलाई को मास्को में दिया गया वक्तव्य मेरा नाम एडवर्ड स्नोडेन है। एक महीने से थोड़ा पहले तक मेरा एक परिवार था, स्वर्ग में एक...

असंभव समय से सामना

विजय प्रशाद रोजगार सृजन पूंजीवाद में दुर्घटनावश पैदा हुआ उप-उत्पाद है। उसका साध्य नहीं। ''किसी जमाने में जादू-टोने से एक मृत को जॉम्बी (जिन) बनाकर उससे मन मुताबिक काम...

ओलंपिक खेल : कुश्ती की राजनीति

एक संवाददाता इस माह 15 सदस्योंवाली अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक कमेटी ने एक कथित गुप्त मतदान में तय किया है कि सन 2020 में होनेवाले ओलंपिक से कुश्ती बाहर हो...

पत्र : अंग्रेजी का कमाल

पी.साइनाथ और अरुंधती के लेख के अनुवादों के संपादन के बारे में एक निवेदन है। मैंने गौर किया कि आपने 'तेंडुलकर' को बदलकर 'तेन्दुलकर' और 'रॉकअफेलर' को 'रॉकफेलर' कर...

मीडिया

लोकतंत्र में समाचार की कीमत

बहुराष्ट्रीय कंपनियों का तौर-तरीका लगभग एक-सा है। फर्क सिर्फ यह है कि कहीं वह बहुत अपराधिक है और कहीं बहुत खुला हुआ। कॉरपोरेट मीडिया संगठन,...

फिल्म

खेल का राजनीतिक खेल

अण्णा आंदोलन का फिल्मी संस्करण: पानसिंह तोमर तिगमांशु धूलिया निर्देशित फिल्म पानसिंह तोमर और अण्णा टीम में कुछ प्रचंड समानताएं हैं। अण्णा टीम संसद और...
0FansLike
64,303FollowersFollow
3,396SubscribersSubscribe
- Advertisement -

संपादकीय : परिवारवाद पर चोट

और जो भी हो इंडिया अगेंस्ट करप्शन और इसके नेता अरविंद केजरीवाल का हमें आभारी होना होगा कि उन्होंने भारतीय राजनीति में फैले व्यापक...

प्रकाशकीय 15वें वर्ष में प्रवेश

इस अंक के साथ समयांतर अपने पुनर्प्रकाशन के 15वें वर्ष में प्रवेश कर रहा है। हमारे लिए यह यात्रा कठिन, चुनौती पूर्ण पर आनंददायक रही...

संपादकीय : श्रद्धा और सांप्रदायिकता के बीच की तीर्थयात्रा

सर्वोच्च न्यायालय द्वारा मुस्लिम तीर्थयात्रियों को हज जाने के लिए दी जानेवाली सब्सिडी को लेकर मई के शुरू में जो फैसला आया, वह महत्त्वपूर्ण...

समाज-व्यवस्था :वर्ण व्यवस्था का पायदान

  मैत्रेयी पुष्पा अदृश्य भारत: भाषा सिंह; पेंगुइन बुक्स; मूल्य: 199, पृ.सं.:212 पेपरबैक संस्करण ISBN : 978-0-143-41643-2 हमारे देश की वर्णव्यवस्था का प्रारूप बड़ी चतुराइयों, कुशलताओं और...

अर्थजगत : नव उदारवाद और विकास के अंतर्विरोध

विशेष : पुस्तकों पर केंद्रित छमाही आयोजन : परिच्छेद :समीक्षा ’ साक्षात्कार ’ लेख ’ कविता: जून, 2012 प्रस्तुति : जे. के. पांडे वैकल्पिक आर्थिक वार्षिकी-तीन:...

विशालतम लोकतंत्र का संकीर्णतम इतिहास

धीरेश सैनी == विशेष परिच्छेद : पुस्तकों पर केंद्रित छमाही आयोजन , समीक्षा - साक्षात्कार - लेख – कविता अक्टूबर, 2012 == भारत गांधी के बाद:...
[testimonial_count]