घटनाक्रम – दिसंबर 2013

0
73

निधन

– प्रसिद्ध कनाडाई डाक्यूमेंटरी फिल्मकार पीटर विन्टॉनिक का कैंसर से निधन। उनकी सर्वाधिक चर्चित फिल्मों में मैन्युफैक्चरिंग कांसेंट: नोम चोम्स्की एंड द मीडिया तथा सिनेमा वेराइटे: डिफाइनिंग द मोमैंट थीं। उन्होंने सौ से अधिक फिल्में बनाईं।

Frederick-Sanger– दो बार नोबेल पुरस्कार से सम्मानित वैज्ञानिक फ्रैडरिक सेंगर का 95 वर्ष की अवस्था में लंदन में निधन। सेंगर को पहले 1954 में और फिर 1980 में रसायनशास्त्र के लिए नोबेल मिला था। उन्होंने डीएनए सीक्वेंसिंग पद्धति की खोज की थी। वह दो बार नोबेल पानेवाले दुनिया के चार लोगों में से थे।

– भाषाविद और साहित्यकार कैलाशचंद्र भाटिया (2 फरवरी 1927 – 21 नवंबर 2013) का निधन। उन्होंने अनेकों पुस्तकें लिखीं थीं। उन की चर्चित किताबें थीं हिंदी में अंग्रेजी आगत शब्द, हिंदी भाषा तथा हिंदी तथा भारतीय भाषाओं में समान तत्व आदि।

सम्मान

– इनफोसिस के वर्ष 2013 के पुरस्कार पाने वाले वैज्ञानिकों में हैं: इंजीनियरिेंग व कंप्यूटर विज्ञान के लिए रामगोपाल राव, लाइफ साइंसेज के लिए राजेश गोखले, मैथेमैटिकल साइंसेज राहुल पंढरीपांडे , फिजिकल साइंसेज शिराज नवल मीनवाला, मानविकीय का पुरस्कार संयुक्त रूप से नयन ज्योत लाहिड़ी पुरातत्वविज्ञान तथा आयशा किदवई भाषा विज्ञान के लिए संयुक्त रूप से तथा

अनिनहल्लि आर । वसावी को सामाजिक विज्ञान के पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। इस पुरस्कार की राशि 55 लाख रुपए है।

– 16वां रमाकांत स्मृति कहानी पुरस्कार किरन सिंह को प्रदान किया गया।

– सुप्रसिद्ध चित्रकार अंजोली इला मेनन दो लाख 51 हजार रुपए के ‘दयावती मोदी कला संस्कृति व शिक्षा’ पुरस्कार से सम्मानित।

– जानेमाने संगीतज्ञ आर सत्यनारायणन, मोहनीयात्तम नृतक कनक रेले और जानेमाने मराठी नाटककार महेश एलकुंचवार को संगीत नाटक अकादेमी ने वर्ष 2013 की फेलोशिप से सम्मानित किया है।

निधन

– व्यंग्यकार के.पी. सक्सेना ( 13 अप्रैल 1932 – 31 अक्टूबर, 2013) के नाम से लोकप्रिय कालिका प्रसाद सक्सेना का लखनऊ में निधन। उन्होंने व्यंग्य लेखन के अलावा दूरदर्शन के लिए धारावाहिक और फिल्मों के संवाद भी लिखे। उन्हें सन 2000 में पद्मश्री से नवाजा गया था।

– जानेमाने आलोचक, अध्यापक और कवि परमानंद श्रीवास्तव(10 फरवरी 1935 – 5 नवंबर, 2013) का गोरखपुर में निधन। उनकी चर्चित आलोचना पुस्तकें हैं: नई कविता का परिप्रेक्ष्य, हिंदी कहानी की रचना प्रक्रिया, उपन्यास का पुनर्जन्म आदि। उनके कई कविता संग्रहों हैं उजली हंसी के छोर पर, अगली शताब्दी के बारे में आदि शामिल हैं। उन्हें भारत भारती और व्यास सम्मान से भी सम्मानित किया गया था। वह गोरखपुर विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग से जुड़े थे और आलोचना पत्रिका के सहयोगी संपादक भी रहे।

– साहित्य अकादेमी पुरस्कार प्राप्त राजस्थानी कथाकार और लोककथाओं के पुनप्र्रस्तुत करता विजनदान देथा ( 1 सितंबर 1926 – 10 नवंबर 2013) का अपने पैतृक गांव बोरूंदा में निधन। उन्होंने हिंदी में भी कहानियां लिखीं। उनकी चर्चित रचनाएं हैं बातां री फुलवारी (बातों की फुलवारी, राजस्थानी), उलझन आदि।

– बाल साहित्यकार हरिकृष्ण देवसरे (9 मार्च 1938 – 14 नवंबर 2013) का दिल्ली के निकट निधन। वह पिछले कुछ वर्ष से बीमार थे। उन्होंने कई पुस्तकें लिखीं। वह पराग पत्रिका के संपादक भी रहे। उन्हें साहित्य अकादेमी के बाल साहित्य पुरस्कार के अलावा हिंदी अकादेमी आदि कई पुरस्कारों से सम्मानित किया गया था।

– नोबेल पुरस्कार से सम्मानित ब्रितानवी अंग्रेजी लेख
िका डोरिस लेसिंग (22 अक्टूबर 1919 – 18 नवंबर, 2013) का लंदन में निधन। उन्होंने 50 से अधिक उपन्यास लिखे। नारीवाद पर आधारित द गोल्डन नोटबुक उनका बहुचर्चित उपन्यास था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here