Friday, November 24, 2017

ओलंपिक खेल : कुश्ती की राजनीति

एक संवाददाता इस माह 15 सदस्योंवाली अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक कमेटी ने एक कथित गुप्त मतदान में तय किया है कि सन 2020 में होनेवाले ओलंपिक से कुश्ती बाहर हो...

उत्तराखंड : बढ़ती सांप्रदायिकता और कश्मीरी छात्र

राजनीति ने हमारे पूरे समाज को किस तरह से सांप्रदायिक और जुनूनी बना दिया है देहरादून की घटनाएं इस बात का प्रमाण हैं। यहां याद रखने की बात यह...

उत्तराखंड : बर्बादी की ऊर्जा परियोजनाऐं

भारत झुनझुनवाला जलविद्युत कंपनियों की अवैध गतिविधियों को केंद्र और उत्तराखंड की राज्य सरकार का समर्थन मिल रहा है। इसमें अंतर्निहित यह समझ है कि इन परियोजनाओं से होनेवाले लाभ...

समाचार-संदर्भ : क़ाजमी को क्यों पकड़ा गया?

महताब आलम वरिष्ठ पत्रकार और मध्य-पश्चिम एशियाई मामलों के जानकार मोहम्मद काजमी को पिछले दिनों, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद दो लाख के निजी मुचलके पर जमानत पर रिहा...

पाठयक्रम का व्यापार

अंजनी कुमार दिल्ली विश्वविद्यालय के कला संकाय, लॉ फैकल्टी या डी स्कूल के फोटोकापी करने वाली दुकानों के बाहर एक स्टीकर चिपका दिया गया है: पूरी किताब फोटोकापी करने का...

पुलिस की नजर में अल्पसंख्यक का मतलब

महताब आलम दिल्ली पुलिस का प्रतिष्ठित स्पेशल सेल, इन दिनों एक बार फिर काफी चर्चा में है। पर आतंकवाद, माओवाद, उग्रवाद और न जाने क्या-क्या से 'लडऩे' के लिए चर्चित...

साक्षात्कार : अचानक आनेवाली बाढ़ें मानव निर्मित अपदायें हैं

अंतराष्ट्रीय ख्याति के भूगर्भ वैज्ञानिक व पर्यावरण विद खडग़ सिंह वल्दिया से अनुपम चक्रवर्ती की बातचीत प्र: हिमालय तथा भारत के अन्य भागों में अचानक आनेवाली बाढ़ें रह-रह कर आने...

प्राकृति आपदाएं : क्या हम अब भी कुछ सीखेंगे?

एक संवाददाता जुलाई से सितंबर तक के तीन महीनों में बादल फटने और अचानक आई बाढ़ों से अकेले उत्तराखंड में ही सौ से अधिक जानें जा चुकी हैं। मौसम में...

सोशल मीडिया पर लगाम

यह तो एक बहाना है : पीयूष पंत अगर हम उन लोंगो की अभिव्यक्ति की आजादी पर विश्वास नहीं करते जो हमें ना पसंद हैं तो इसका सीधा मतलब...

खाप पंचायतों की राजनीति- भेड़ की खाल में

धीरेश सैनी जींद जिले के बीबीपुर गांव में हुई महापंचायत में कन्या भूण हत्या के खिलाफ लिया गया फैसले का मकसद दुनिया की आंखों में धूल झोंकने, अपना चेहरा चमकाने...